बवासीर (Piles) के लिए 8 बेहतरीन घरेलू इलाज

बवासीर को हेमरॉइड्स के रूप में भी जाना जाता है, ये गुदा नहर वाले हिस्से में सूजी हुई नसें हैं। अपनी सामान्य अवस्था में, वे मल के मार्ग को नियंत्रित करने के लिए आरामदायक गद्दे की तरह से काम करती हैं। हालांकि बवासीर का सही कारण मालूम नहीं है, लेकिन अध्ययनों से पता चला है कि बवासीर के लिए बहुत हद तक जिम्मेदार वे कारक होते हैं जो मल त्यागने के दौरान गुदा वाले हिस्से में दबाव बढ़ाते हैं। 

बवासीर (Piles) के लिए 8 बेहतरीन घरेलू इलाज - काव्यांजलि - kavyanjali.in
बवासीर (Piles) के लिए 8 बेहतरीन घरेलू इलाज 1

बैठते या मल त्याग करते समय गुदा वाले हिस्से में जलन जैसे लक्षणों से पीड़ित व्यक्ति को समस्या की पहचान कराने के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। डॉक्टर द्वारा बताए गए उपचार का पालन करें। डॉक्टर की लिखी दवाओं या सर्जरी के साथ-साथ, आपको एक स्वस्थ जीवन शैली और आहार का पालन करने के लिए कहा जाएगा। शुरुआती उपायों में पूरे शरीर में पानी की भरपूर मात्रा बनाए रखने के लिए फाइबर का सेवन बढ़ाना, आराम करना और भरपूर तरल पदार्थ पीना शामिल है। समस्या वाले हिस्से में मेडिकेटिड क्रीम लगाई जा सकती है, हालांकि आपकी स्थिति की गंभीरता के आधार पर उनके असर में अंतर हो सकता है।

विषय-सूची (Table of content)

  1. बवासीर किन कारणों से होता है?
  2. बवासीर के प्रकार
  3. बवासीर के लक्षण
  4. बवासीर के लिए घरेलू इलाज
  5. डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?
  6. अक्सर पूछे जाने वाले सवाल
  7. यह आपकी ज़रूरत की और काम की बातें हो सकती हैं!

बवासीर किन कारणों से होता है?

बवासीर का सही-सही कारण अभी भी मालूम नहीं है। हालांकि यह पता लगाना मुश्किल है कि बवासीर का सटीक कारण क्या है, लेकिन कई कारक हैं जो बवासीर में योगदान कर सकते हैं:

  • पोषण संबंधी कारक (कम फाइबर वाला आहार)
  • मल का नियम से त्याग न करना (कब्ज़ या दस्त के कारण)
  • नियमित व्यायाम न करना
  • इंट्रा-एब्डोमिनल प्रेशर बढ़ना (लंबे समय तक तनाव या गर्भावस्था के कारण)
  • आनुवंशिकी (जेनेटिक्स)
  • हेमरॉइडल वेन्स में खराब वाल्व होना

अन्य कारक जो बवासीर होने में समान रूप से योगदान कर सकते हैं वे ये हो सकते हैं:

  • पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन
  • देर तक बैठे रहना
  • मोटापा
  • पालथी मारकर बैठने से भी गंभीर बवासीर होने की संभावना बढ़ सकती है

बवासीर के प्रकार (Types of piles)

  • आंतरिक बवासीर: इस प्रकार के बवासीर गुदा गुहा (एनल कैविटी) के अंदर होते हैं, लेकिन अक्सर आपके गुदा से बाहर लटक सकते हैं। इस तरह के बवासीर को और वर्गीकृत किया जा सकता है, वे कितने बाहर निकलते हैं इसके आधार पर:
  • फर्स्ट डिग्री: इस स्थिति में, बवासीर गुदा से बाहर नहीं निकलता है लेकिन उसमें से खून आ सकता है।
  • सेकेंड डिग्री: यह मल त्याग के दौरान बाहर आता है लेकिन बाद में अंदर चला जाता है।
  • थर्ड डिग्री: यह कभी-कभी बाहर आता है लेकिन अगर आप इसे धीरे से धक्का देंगे तो यह अंदर चला जाएगा।
  • फोर्थ डिग्री: वे आंशिक रूप से आपकी गुदा के बाहर होते हैं और उन्हें अंदर नहीं धकेला जा सकता है। अगर गांठ के अंदर खून का थक्का जम जाता है तो वे सूज सकते हैं और उनमें बहुत दर्द हो सकता है।
  • बाहरी बवासीर: इस प्रकार का बवासीर गुदा नहर (एनल कैनाल) के नीचे गुदा के नज़दीक होता है। अगर गांठ के अंदर खून के थक्के बने हों तो उनमें दर्द हो सकता है।
  • •प्रोलेप्सड बवासीर: आंतरिक और बाहरी बवासीर दोनों ही आगे की ओर बढ़ सकते हैं, जिसका मतलब यह हुआ कि वे गुदा के बाहर फैलते हैं और उभार बनाते हैं। इन बवासीरों से खून निकल सकता है या दर्द हो सकता है।
  • बवासीर के लक्षण (Symptoms of piles)
  • गुदा वाले हिस्से में खुजली
  • गुदा वाले हिस्से में दर्द, खासकर लंबे समय तक बैठे रहने पर
  • आपके गुदा वाले हिस्से के पास एक या ज़्यादा सख्त, कोमल गांठ
  • आपके मलाशय से खून रिसना। यह शौच के बाद मल, टॉयलेट पेपर या टॉयलेट बाउल में चमकीले लाल खून के रूप में दिखाई देता है
  • मल त्याग करते समय दर्द और/या परेशानी
  • बवासीर के लिए घरेलू इलाज
  • सिट्ज बाथ: गर्म पानी से नहाना, बवासीर के कारण होने वाली जलन को शांत करने में मदद कर सकता है। सिटज़ बाथ इस्तेमाल करने का प्रयास करें। सिट्ज़ बाथ एक ऐसी विधि है जिसमें एक छोटे प्लास्टिक के टब का उपयोग किया जाता है जो टॉयलेट सीट पर फिट हो जाता है ताकि आप प्रभावित हिस्से को बस उसमें डुबो सकें। इस पानी में बीटाडीन का घोल या डॉक्टर द्वारा सुझाए गए अन्य एंटीसेप्टिक घोल का उपयोग किया जा सकता है। 
  • कोल्ड कंप्रेस: एक बार में कम से कम 15 मिनट तक सूजन से राहत पाने के लिए गुदा वाले हिस्से पर आइस पैक या कोल्ड कंप्रेस लगाएं। बड़े, दर्द करने वाले बवासीर के लिए ये कोल्ड कंप्रेस दर्द से निपटने का एक बेहद असरदार उपाय हो सकते हैं।
  • नारियल का तेल: 2008 में किए गए शोध के अनुसार, नारियल के तेल में मज़बूत एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन मिटाने वाले) गुण होते हैं जो त्वचा लाल होने और सूजन को कम कर सकते हैं। इसमें एनाल्जेसिक (दर्द निवारक) गुण होते हैं जो बवासीर के कारण होने वाली परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसमें एंटीबैक्टीरियल (जीवाणु को मारने वाले) गुण भी होते हैं जो बवासीर के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।
  • वेट वाइप्स: मल त्याग के बाद टॉयलेट पेपर इस्तेमाल करने से मौजूदा बवासीर में जलन हो सकती है। भीगे हुए वाइप्स, और जलन पैदा किए बिना आपको साफ रखने में मदद करते हैं। आप ऐसे वाइप्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जिनमें एंटी-हेमरॉइड (बवासीर-रोधी) तत्व होते हैं, जैसे कि विच हेज़ल या एलोवेरा।
  • व्यायाम: बवासीर के लक्षणों को असरदार तरीके से प्रबंधित करने के लिए घर पर व्यायाम करना एक शानदार उपाय हो सकता है। नियमित पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज़ करना बवासीर के लिए एक लॉन्ग-टर्म सॉल्युशन साबित हो सकता है। अपनी पेल्विक फ्लोर की माँसपेशियों को मज़बूत करने से, बिना ज़्यादा दबाव डाले अपनी आंत को खाली करने में मदद मिल सकती है।
  • तनाव प्रबंधन करना और अच्छी नींद लेना: आराम करने और तनाव को असरदार तरीके से प्रबंधित करने के लिए एक कड़ा प्रयास करने से आंतों को अच्छी आदतें अपनाने में मदद मिलती है। रात में भरपूर नींद लेने से भी पाचन स्वास्थ्य अच्छा बनाए रखने में मदद मिलती है। ऐसा होने पर, आँतों से मल भी आसानी से होकर जा पाता है।
  • हाइड्रेशन: कहने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन भरपूर पानी और फलों के रस जैसे अन्य स्वस्थ तरल पीने से आपकी आंत कम शुष्क होती है। जब आपका शरीर अच्छी तरह से हाइड्रेटेड (पानी की कमी न होना) होता है, तो आपका पाचन स्वास्थ्य बेहतर होने लगता है जिससे आपको मल त्याग के दौरान दबाव कम डालना पड़ता है।
  • ज़्यादा फाइबर वाला आहार: भरपूर मात्रा में अघुलनशील और साथ ही घुलनशील फाइबर वाला संतुलित आहार लेने से आपको नियमित रूप से मलत्याग करने में मदद मिलेगी। अघुलनशील फाइबर आपके मल का वज़न बढ़ाता है, जिससे आपको मल त्यागने के दौरान ज़ोर कम लगाना पड़ता है। फाइबर को आंतों को स्वस्थ रखने में मदद करने के लिए भी जाना जाता है।
  •  
  • डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?
  • ऊपर बताए गए बवासीर के लक्षणों में से कोई भी लक्षण दिखाई देने पर आपको बिना देरी किए डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। ये लक्षण कोलोरेक्टल कैंसर जैसी अन्य गंभीर स्थितियों में आम हैं। इसलिए, एक डॉक्टर से इनकी जल्दी पहचान कराना ज़रूरी है। अपने डॉक्टर को सूचित करें अगर- :
  • घर पर बवासीर का प्रबंधन करने के 2-4 दिनों के बाद भी आपमें लक्षण मौजूद हैं
  • आपके मलाशय से खून रिस रहा है
  • आपको बहुत दर्द हो रहा है